Guru Purnima 2018 Hindi Poems Speech Essay Poetry for Teachers

By | July 23, 2018

Guru Purnima 2018 Hindi Poems Speech Essay Poetry for Teachers: Hello friends! Good Morning to all. Our team wishing you a very Happy Guru Purnima 2018 to you and your family. Guru Purnima 2016 Poems in Hindi Speech Essay Poetry for Teachers has been available here. Guru Purnima is an auspicious day in India that is especially dedicated to one’s gurus. It is traditionally celebrated by Hindus, who pay respect and express their gratitude towards their gurus. Guru Purnima is celebrated on the full moon day (Purnima) in the month of Ashadh. You can get Guru Purnima Wishes, Quotes, Images, and Pictures, essay, Poems, SMS, Messages, Greetings, cards, quotes, Hindi, Marathi, Guru Purnima 2016 Short Poems Poetry in Hindi, Marathi, English for Friends and more.

Recently we have published post on, Happy Guru Purnima 2018 Poems Speech Essay in English and Guru Purnima Advance Wishes Images Photos for Whatsapp 2017

Guru Purnima 2018 Hindi Poems Speech Essay Poetry for Teachers

We also have collected the best Guru Purnima Advance Wishes Poems Speech Poetry 2018 and Happy Guru Purnima 2018 Animated Greetings Cards

Guru Purnima 2016 Hindi Poems Speech Essay Poetry for Teachers

Read More: guru purnima images status poems quote speech sms 2018

Guru Purnima 2018 Poem in Hindi

Hath jod vinti karu lo hamse neh lagaye
Das apke sarn me karna sadaa sahay
Dhanya tumhara des hai Shirdi nagar mahan
Anupam chhabi shri Sai ki darshan say kalyan
Sai Sai nit me ratu Sai hai jiovan pran
Sai bhakt jagme bade unko karu pranam
Shirdi nagar ke beech me bana apka dham
Ramnavmi me mela lage Jai Jai Sayee Ram
Guru purnima par bhari utsav hoi
Baba ke darbar se khali jayena koi
Umapati Laxmipati Sitapati Shree Ram
Laj sabki rakhna prabhu he Shirdi ke Shyam
Pan supari naivaidhy chadhau dhup sugandh bharpur
Sab bhakto ki vinati darshan dedo hajur
Sai Sonu kahe jo dhare Sai ka dhyan
Kasht uske sab dure tare jag me bane mahan
Sacche hirday jo kare Sai ka gur gyan
Sai krupa se gyan mile jag me paye maan

Read More: happy Guru Purnima 2018 WhatsApp status

Guru Purnima Essay in Hindi

‘गुरु पूर्णिमा’ एक प्रसिद्द भारतीय पर्व है। इसे हिन्दू एवं बौद्ध पूर्ण हर्ष व उल्लास के साथ मानते हैं। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार आषाढ माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है। गुरु पूर्णिमा गुरु के प्रति श्रद्धा व समर्पण का पर्व है। यह पर्व गुरु के नमन एवं सम्मान का पर्व है। मान्यता है कि इस दिन गुरु का पूजन करने से गुरु की दीक्षा का पूरा फल उनके शिष्यों को मिलता है

गुरु का हमारे जीवन में बहुत महत्त्व है। ‘गु’ का अर्थ होता है अंधकार (अज्ञान) एवं ‘रु’ का अर्थ होता है प्रकाश (ज्ञान)। गुरु हमें अज्ञान रूपी अंधकार से ज्ञान रूपी प्रकाश की ओर ले जाते हैं। भावी जीवन का निर्माण गुरू द्वारा ही होता है।

गुरु पूर्णिमा के अवसर पर गुरुओं का सम्मान किया जाता है। इस अवसर पर आश्रमों में पूजा-पाठ का विशेष आयोजन किया जाता है। इस पर्व पर विभिन्न क्षेत्रों में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने वाले विभूतियों को सम्मानित किया जाता है। सम्मानित लोगों में साहित्य, संगीत, नाट्य विद्या, चित्रकला आदि क्षेत्रों के लोग शामिल होते हैं। कई जगह कथा, कीर्तन एवं भंडारा का आयोजन किया जाता है। इस दिन गुरु के नाम पर दान-पुण्य करने का भी प्राविधान है।

Read More: Guru Purnima GIF, Animated & 3D Pics for Whatsapp & Facebook 2018

Guru Purnima Speech in Hindi

गुरु पूर्णिमा के पावन पर्व पर, विश्व के समस्त गुरुजनों को मेरा शत् शत् नमन। गुरु के महत्व को हमारे सभी संतो, ऋषियों एवं महान विभूतियों ने उच्च स्थान दिया है।संस्कृत में ‘गु’ का अर्थ होता है अंधकार (अज्ञान)एवं ‘रु’ का अर्थ होता है प्रकाश(ज्ञान)। गुरु हमें अज्ञान रूपी अंधकार से ज्ञान रूपी प्रकाश की ओर ले जाते हैं।हमारे जीवन के प्रथम गुरु हमारे माता-पिता होते हैं। जो हमारा पालन-पोषण करते हैं, सांसारिक दुनिया में हमें प्रथम बार बोलना, चलना तथा शुरुवाती आवश्यकताओं को सिखाते हैं। अतः माता-पिता का स्थान सर्वोपरी है। जीवन का विकास सुचारू रूप से सतत् चलता रहे उसके लिये हमें गुरु की आवश्यकता होती है। भावी जीवन का निर्माण गुरू द्वारा ही होता है। गुरू शिष्य का संबन्ध सेतु के समान होता है। गुरू की कृपा से शिष्य के लक्ष्य का मार्ग आसान होता है।स्वामी विवेकानंद जी को बचपन से परमात्मा को पाने की चाह थी। उनकी ये इच्छा तभी पूरी हो सकी जब उनको गुरू परमहंस का आर्शिवाद मिला। गुरू की कृपा से ही आत्म साक्षात्कार हो सका।छत्रपति शिवाजी पर अपने गुरू समर्थ गुरू रामदास का प्रभाव हमेशा रहा। गुरू द्वारा कहा एक शब्द या उनकी छवि मानव की कायापलट सकती है।

 

Read More: Guru Purnima Image for Whatsapp DP

We hope our post on Happy Guru Purnima 2018 Hindi poems, speech, the essay will be useful to all. Let’s share this article on social media sites like Facebook, Google Plus, Twitter and other. Keep visiting!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *